बुलंदशहर इंस्पेक्टर मौत

यूपी के बुलंदशहर में कथित गोकशी का विरोध करने वाली भीड़ ने जमकर उत्पात मचाया. इस खूनी संघर्ष में स्याना थाने के पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की मौत हो गई. मौत से पहले सुबोध ने कथित गोकशी पर गुस्साई भीड़ को समझाने की तमाम कोशिश की, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सके और उपद्रवियों ने उनकी जान ले ली.

सोमवार दोपहर खेले गए इस खूनी खेल के बाद अब सवाल ये उठ रहे हैं कि क्या इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की मौत के पीछे दादरी कनेक्शन है? क्योंकि 2015 में ग्रेटर नोएडा के दादरी में हुई मोहम्मद अखलाक की मॉब लिंचिंग केस के जांच अधिकारी (IO) सुबोध कुमार ही थे.

बुलंदशहर के डीएम अनुज झा ने आज तक को बताया कि हम इस एंगल से भी जांच कर रहे हैं कि कहीं बदले की भावना से तो उन्हें निशाना नहीं बनाया गया. क्योंकि जांच में यह बात भी सामने आ रही है कि भीड़ ने उन्हें अस्पताल नहीं ले जाने दिया, अगर उन्हें समय से इलाज मिलता तो उनकी जान बचाई जा सकती थी.

इस मसले पर यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने बताया कि सुबोध कुमार 28 सितंबर 2015 से 9 नवंबर 2015 तक अखलाक लिंचिंग केस के जांच अधिकारी थे. जबकि उस मामले की चार्जशीट मार्च 2016 में किसी दूसरे जांच अधिकारी ने फाइल की थी. सुबोध कुमार के नेतृत्व में कई आरोपियों की भी गिरफ्तारियां हुई थीं.

दूसरी तरफ चश्मदीदों से जानकारी मिली है कि सुबोध कुमार को बचाया जा सकता था, लेकिन उग्र भीड़ ने सुबोध कुमार को वक्त से अस्पताल तक नहीं ले जाने दिया. इस तथ्य को एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार से उस बयान से भी बल मिलता है, जिसमें उन्होंने कहा है कि अटैक के बाद जब पुलिस वैन में सुबोध कुमार को अस्पताल ले जाने की कोशिश की गई तो भीड़ ने उस वैन को निशाना बनाया और पत्थरबाजी की. आनंद कुमार ने भीड़ द्वारा गोलीबारी की बात भी कही.

गोली लगने से सुबोध कुमार की मौत

बुलंदशहर के जिलाधिकारी अनुज झा ने बताया है कि सुबोध कुमार की मौत गोली लगने से हुई है. अनुज झा के मुताबिक, ‘डॉक्टरों ने पुष्टि की है कि सुबोध कुमार की मौत सिर में गोली लगने से हुई है.’

डीएम ने बताया, ‘भीड़ हथियारों से लैस थी. जब वह सड़क जाम करने के लिए आए थे, उनके पास धारदार हथियार भी, डंडे और पत्थर भी थे. पहले सुबोध पर सड़क पर हमला किया गया, फिर वह जान बचाने के लिए खेत की तरफ गए. ऐसा देखकर सुबोध कुमार का हमराह ड्राइवर उनके पास पहुंचा और उन्हें अस्पताल ले जाे के लिए गाड़ी में बैठाया.

अनुज झा ने बताया कि इस दौरान जब सुबोध कुमार को पुलिस वैन से अस्पताल ले जाने का प्रयास किया गया तो भीड़ ने पत्थरबाजी कर दी. बाद में कई पुलिसकर्मी वहां पहुंचे और सुबोध कुमार को दूसरी गाड़ी से अस्पताल ले गए. डीएम अनुज झा ने बताया कि जब सुबोध कुमार को पुलिस ले गई तो भीड़ ने खेत में खड़ी पुलिस वैन को आग के हवाले कर दिया. बता दें कि ऐसा एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें सुबोध कुमार के होने का दावा किया गया है. वीडियों में सुबोध कुमार खेत में खड़ी पुलिस वैन में खिड़की से नीचे बेजान लटके नजर आ रहे हैं और भीड़ तांडव मचा रही है. गाड़ी में तोड़फोड़ भी दिखाई दे रही है.

बता दें कि सोमवार (3 दिसंबर) को स्याना थाना क्षेत्र के मऊ गांव के एक खेत में गोकशी की आशंका जाहिर की गई थी, जिसकी शिकायत मिलने पर सुबोध कुमार पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचे थे. इस मामले में एफआईआर दर्ज की जा रही थी, इतने में ही तीन गांव से करीब 400 लोगों की भीड़ ट्रैक्टर-ट्राली में कथित गोवंश के अवशेष भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी के पास पहुंच गई और जाम लगा दिया. भीड़ जब उग्र हुई तो पुलिस ने काबू पाने के लिए लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़े और जल्द ही वहां फायरिंग भी होने लगी. जिसमें सुबोध कुमार घायल हो गए और एक युवक भी जख्मी हो गया. सुबोध कुमार को अस्पताल ले जाने से रोका गया और उनकी कार पर जमकर पथराव भी किया गया. अब पुष्टि हुई है कि सुबोध कुमार की मौत गोली लगने से हुई है.

News and Media Source – AajTak

LEAVE A REPLY