कमलनाथ

पूरे दिन की माथापच्ची के बाद आखिरकार मध्य प्रदेश के सीएम के नाम का भोपाल में गुरुवार को देर रात को ऐलान हो गया. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रात 8 बजे के करीब एक फोटो ट्वीट की. जिसमें वो कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ दिख रहे थे. इसमें उन्होंने Leo Tolstoy का एक कथन लिखकर राजनैतिक संदेश दिया कि धैर्य और समय दो सबसे ताकतवर योद्धा होते हैं. ऐसा माना गया कि इसके माध्यम से राहुल गांधी ने ज्योतिरादित्य को धैर्य रखने के लिए कह दिया और यह बता दिया कि कमलनाथ का समय आ गया है.

इसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रात साढ़े आठ बजे के करीब ट्विटर पर लिखा कि “ये कोई रेस नहीं और ये कुर्सी के लिए नहीं, हम यहां मध्य प्रदेश की जनता की सेवा के लिए हैं, मैं भोपाल आ रहा हूं, और आज ही CM के नाम का एलान होगा.” इससे भी ऐसा लगा कि ज्योतिरादित्य ने कमलनाथ के सामने सरेंडर कर दिया है.

पूरे दिन दोनों के नाम को लेकर माथापच्ची हो रही थी. क्योंकि दिल्ली में मंथन चल रहा था दूसरी ओर भोपाल में समर्थक बेकाबू हो रहे थे. कमलनाथ और सिंधिया के पक्ष में नारे लगाए जा रहे थे. फैसले से पहले ही समर्थकों ने कमलनाथ को सीएम बना दिया और कमलनाथ नए सीएम वाला पोस्टर लगा दिया. सिंधिया समर्थक भी तैयारी करके आए थे. कमलनाथ का पोस्टर देखा तो वो सिंधिया का कटआउट ले आए और माला पहनाकर सीएम बना दिया.

इधर दिल्ली में गांधी परिवार कमलनाथ और सिंधिया पर मंथन में जुटा था. वैसे तो 4 बजे तक नाम तय होना था. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. कमलनाथ और सिंधिया के समर्थक नारेबाज़ी करते हुए भोपाल में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर जुट गए. हालत यह हो गई कि शोभा ओझा और अभय दुबे को मामला संभालने के लिए बाहर आना पड़ा, लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं था.

कांग्रेस के नेता भले ही इस टकराव को अतिउत्साह और जीत का जोश बता रहे हैं, लेकिन यह साफ देखा जा रहा था दोनों के समर्थक भिड़ने को तैयार थे. यह लग रहा था कि कोई मौका नहीं चूकना चाहता.

अगर राहुल के साथ राजस्थान के नेताओं के मीटिंग की बात करें तो, सुबह राजस्थान के पर्यवेक्षकों से राहुल गांधी की मीटिंग हुई. करीब करीब 12 बजे सचिन पायलट राहुल गांधी के घर पहुंचे. पायलट से मीटिंग खत्म हुई तो कुछ देर बाद अशोक गहलोत भी पहुंचे. इसी बीच दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पायलट समर्थकों की नारेबाज़ी हुई. दोनों नेताओं को गुरुवार को ही जयपुर लौटना था, लेकिन ख़बरें आईं कि उन्हें रोका गया.

दोपहर को ढाई बजे राहुल गांधी की मध्य प्रदेश के पर्यवेक्षक एके एंटनी से मीटिंग हुई.

करीब 4 बजे ज्योतिरादित्य सिंधिया भी राहुल गांधी के घर पहुंचे. इसी बीच भोपाल में कांग्रेस मुख्यालय में कमलनाथ और सिंधिया समर्थक जुट गए.

इसी बीच सोनिया गांधी भी राहुल से मिलने के लिए उनके घर पहुंचीं.

शाम को करीब 5 बजे प्रियंका वाड्रा भी राहुल गांधी के घर पहुंच गई.

करीब 7 बजे कमलनाथ राहुल गांधी से मिलने उनके घर पहुंचे.

अशोक गहलोत ने शाम 7 बजे कहा कि समय लगता है जब विधायक दल का नेता चुना जाता है सबसे बात करते हैं सबको इनवॉल्व करते हैं कोई नई बात नहीं है.

योगी को चुनने में बीजेपी को 7 दिन का वक्त लगा था

त्रिपुरा में बीजेपी को मुख्यमंत्री चुनने में तीन दिन का वक्त लगा था. हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी बीजेपी ने सीएम चुनने में छह दिन का वक्त लगा दिया था. उत्तर प्रदेश में तो बीजेपी को मुख्यमंत्री पद के लिए योगी आदित्यनाथ का नाम फाइनल करने में 7 दिन लग गए थे. महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस के नाम पर मोहर लगाने में भी बीजेपी आलाकमान को नौ दिन का लंबा वक्त लगा था. हालांकि गोवा में जोड़तोड़ से सरकार बनाने वाली बीजेपी ने एक ही दिन में सीएम पद के लिए मनोहर पर्रिकर के नाम पर मोहर लगा दी थी और हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर का नाम तय करने में बीजेपी को दो दिन लगे थे. हालांकि असम और गुजरात में मुख्यमंत्री चुनने में वक्त नहीं लगा क्यों वहां सीएम का नाम पहले से तय था.

यानी अगर मुख्यमंत्री का नाम पहले से तय ना हो तो चुनाव जीतने के बाद मुख्यमंत्री चुनने में सबको वक्त लगता है फिर चाहे वो कांग्रेस हो या बीजेपी और मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को जीते दो ही दिन तो हुए है. हालांकि इन दो दिनों के दौरान खेमों में बंटी कांग्रेस की गुटबाजी खुलकर सामने आ गई है.

News and Media Source – AajTak

LEAVE A REPLY