अब डर लगने लगा

कुछ इस तरह विचारों का बबंडर उठने लगा है ।
आक्रोश विचारों से मन अब जलने लगा है ।
चारों ओर फैली इन विसंगतियों से अब हर रिश्ते से विशवास उठने लगा है ।
हर रिश्ते को शर्मसार करती हुई खबरों से हवाओ को भी अब छिपने का मन करने लगा है ।
सूर्य ने दे रोशनी, चाँद ने शीतलता देकर जग को सुन्दर उपवन बनाया था ।
काटो का श्रृंगार कर अब वसुंधरा भी कहने लगी-
भूल गए मानव अपनी मर्यादा को इंसान की इंसानियत खोने लगी।
माँ-बाप,भाई-बहन कोई भी रिश्ता सुरक्षित है नहीं।
ये सोच कर दिल घबराने लगा
हे प्रभु! अब राम से अच्छा मुझे रावण लगने लगा ।
रिश्तों की मर्यादा का वो उलघन करता नहीं ।
राम की सीता पर वो जबाजसती करता नहीं ।
युद्ध को स्वीकार कर ले अपनी जिद्द पर,
पर वो सीता का सतीतव भंग करता नहीं ।
सुरक्षित थी मैं उसके राज्य में पर अब हर पल मुझे गुम होने का डर लगने लगा है ।
डॉ मनीषा दुबे

India Asking
India Askinghttps://www.indiaasking.com/
India Asking- Minerals of Vedic Land : Get the latest news from politics, dharm, jyotish, astrology, entertainment, sports and other feature stories.

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

Get in Touch

3,283FansLike
6FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

वर्चस्व

लघुकथा पुरुष का भारी स्वर -" पर यह संसार तो हम पुरुष ही चलाते हैं ।" गर्वीली , वक्र मुस्कान । " हुम्म्म । " स्त्री के...

मकर संक्रांति का त्योहार

मकर संक्रांति का त्योहार हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में शामिल है, जो सूर्य के उत्तरायन होने पर मनाया जाता है। इस पर्व की...