बदलते संदर्भ

लघुकथा –

 

 

 

 

“तुम कौन ?” लड़की का स्वर
” मैं …मैं हूँ , तुम ?” लड़के की आवाज़
” जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ ‘ मैं ‘ हूँ ।” पायल की झंकार सा स्वर ।
” सुनो ! तुम बेहद खूबसूरत हो …।” आसक्त स्वर
” तुम भी तो कितने हैंडसम हो , अपनों से , लगते हो …।”
” अच्छाsss” हैरत और प्रसन्नता भरा लड़के का स्वर ।
” तुम और मैं एक हो सकते हैं यानि … संसार बसा सकते हैं अपना ? ”
कुछ झिझकता हुआ स्वर । फिर मौन स्वीकृति का आदान – प्रदान ।
” मैं और तुम अब हम कहलाने लगेंगे । ”
प्यार में पागल पक्षियों का , तिनकों से घोंसला बनाने का उपक्रम ।
” हाय सच्ची ! ये क्या हमारी दुनिया है ? विश्वास नहीं होता न ।”
” हाँ – हाँ ये तो हमारा ही ‘ घर ‘ है …। कानों में मानो नूपुर बज उठे हों ।
” यहाँ हमारे ग़म और खुशियाँ रहेंगी ।” सधी हुई आवाज़ ।
” बोलो तो ये कौन ?” मैगज़ीन में बच्चे की तस्वीर पर अँगुली टिका दी गई ।
” हमारा प्यार … …।” शरमा के लड़की गुड़हल सी हो गई थी ।
तभी मौसम बदल गया ।
आँधी आने के आसार …।
” मैं नौकरी करूँगी ।”
“कर लो ।”
स्वतंत्र होने की पहली छटपटाहट ।
” ये लो मेरी तनख्वाह ।”
तुम्हारी ? यानि तु..म्हा..री…केवल ।
शब्दों के आघात । छेदने – भेदने की होड़ । अहम् की तुष्टि का भ्रम ।
किनारा दरकने लगा था ।
” चलो तुम्हारी तरक्की हो गई , अच्छा हुआ ।”
” लड़कियाँ बड़ी जल्दी खुद को साबित कर देती हैं । ” बाॅस को मस्का लगाना तुम मुझे भी सिखा दोगी क्या ? ”
” अब से हाउस रेंट फ़िफ़्टी – फ़िफ़्टी ।”
” स्मोकिंग पर फिजूलखर्ची हो रही है , मँहगा शग़ल है । कुछ सोचो यार । ”
” तुम्हारा पार्लर का खर्चा कितना बढ़ गया है ।”
तुम्हारी स्मोकिंग बंद
तुम्हारे पार्लर का खर्च आधा
“एल .सी .डी . तुम्हारी कमाई का …।”
“आई फ़ोन मेरा , कुछ ख़राबी दिखा रहा है । क्या कर दिया क्या तुमने इसमें ? ”
“ये मेरा …”
“वो तुम्हारा …”
” मैं…तुम ”
” तुम … मैं मैं मैं ।”
तुम…तुम हो , मैं भी सिर्फ मैं ही हूँ ।
तू तू मैं मैं
तू तू – मैं मैं …।
अधूरे निर्मित नीड़ के तिनके बिखरने लगे थे । हवा भी तेज़ आंधी का रूप अख़्तियार कर चुकी थी …।

– विभा रश्मि

India Asking
India Askinghttps://www.indiaasking.com/
India Asking- Minerals of Vedic Land : Get the latest news from politics, dharm, jyotish, astrology, entertainment, sports and other feature stories.

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

Get in Touch

3,283FansLike
6FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

वर्चस्व

लघुकथा पुरुष का भारी स्वर -" पर यह संसार तो हम पुरुष ही चलाते हैं ।" गर्वीली , वक्र मुस्कान । " हुम्म्म । " स्त्री के...

मकर संक्रांति का त्योहार

मकर संक्रांति का त्योहार हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में शामिल है, जो सूर्य के उत्तरायन होने पर मनाया जाता है। इस पर्व की...