ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाने की मांग तेज

0
45

अमेरिकी संसद परिसर कैपिटल बिल्डिंग में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों की हिंसा की चारों तरफ निंदा हो रही है. डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाने की मांग तेज होने लगी है. अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की स्पीकर और शीर्ष डेमोक्रेट नेता नेंसी पेलोसी ने डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति के पद से हटाने की मांग की है. वहीं निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने ट्रंप समर्थकों को आतंकी करार दिया है.

डेमोक्रेट नेता नेंसी पेलोसी ने कहा है कि अगर ट्रंप को 25वें संशोधन के तहत नहीं हटाया गया, तो कांग्रेस महाभियोग के साथ आगे बढ़ सकती है.

कैपिटल बिल्डिंग में हंगामा करने वालों को बाइडेन ने ‘घरेलू आतंकवादी’ करार दिया है. उन्होंने कहा, ‘ट्रंप के समर्थकों का अमेरिकी संसद की सुरक्षा का उल्लंघन करना असहमति या प्रदर्शन नहीं था, बल्कि वह अराजकता थी.’ बाइडन ने कहा, ‘कल हमने जो देखा, वह कतई उचित नहीं था. यह कोई डिसऑर्डर नहीं था. यह कोई विरोध नहीं था. वह अराजकता थी. वो प्रदर्शनकारी नहीं थे. उन्हें प्रदर्शनकारी मत कहिए. वे दंगाई, विद्रोही और घरेलू आतंकी थे.’

बाइडेन ने कहा कि कोई भी मुझे यह नहीं बता सकता है कि अगर विरोध करने वाले ब्लैक लाइव्स मैटर का एक समूह होता तो उनसे कैपिटल बिल्डिंग में मौजूद भीड़ की तुलना में ज्यादा अलग सलूक नहीं किया जाता. हम सभी जानते हैं कि यह सच है और यह अस्वीकार्य है.

ट्रंप को हटाने की मांग तेज

ट्रंप के पास राष्ट्रपति के पद पर बने रहने का दो सप्ताह से कम का समय है, कानूनविदों और यहां तक कि उनके प्रशासन में कुछ लोगों ने बुधवार दोपहर को इस मुद्दे पर चर्चा शुरू कर दी क्योंकि ट्रंप ने पहली बार अपने समर्थकों की भीड़ द्वारा यूएस कैपिटल पर हिंसक हमले की निंदा करने से इनकार कर दिया.

प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाने के लिए 25वें संशोधन की धारा 4 को लागू करने की संभावना पर चर्चा की, जिसमें कैबिनेट को राष्ट्रपति को हटाने का अधिकार है.

राजद्रोह के आरोप में हो सकती कार्रवाई

वहीं कोलंबिया जिले के लिए शीर्ष संघीय अभियोजक ने कहा है कि अमेरिकी संसद में हिंसा भड़काने के आरोपी ट्रंप समर्थकों पर कार्रवाई के लिए राजद्रोह सहित विभिन्न विकल्पों पर विचार किया जा रहा है. डीसी के लिए कार्यकारी अमेरिकी अटॉर्नी माइकल शेरविन ने कहा कि अभियोजक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, संपत्ति की चोरी सहित 15 मामलों में केस फाइल करने पर चर्चा कर रहे हैं. Source : Aaj tak

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here