गोस्वामी तुलसीदास का लिखा पंचनामा

गोस्वामी तुलसीदास कैसे अक्षर लिखते थे?
इसका उदाहरण एक पंचनामा है जिस पर तुलसीदास के हाथ की लिखी हुई छ: पंक्तियां कही जाती हैं। इसको तुलसीदास के एक मित्र टोडरमल के पुत्र और पौत्र के बीच जायदाद के बंटवारे के लिए लिखा गया था। यह संवत् 1669 के क्वार मास के शुक्ल पक्ष की 13 वीं तिथि का है और देवनागरी तथा फारसी लिपि में है। हालांकि इसमें तुलसी दास का नाम या दस्तखत नहीं है।
बाबू श्यामसुंदरदास और श्री बड़थ्वाल ने लिखा है :
यह पंचनामा 11 पीढ़ियों तक टोडरमल के वंश में रहा। 11 वीं पीढ़ी में पृथ्वीपालसिंह ने इसे वाराणसी के काशिराज को दे दिया। यह वहीं सुरक्षित रहा।
गत मार्च में प्रयाग के एक एडवोकेट श्री अशोक मेहता जी ने इसे पढ़ने के लिए मुझे मेल से भेजा। सौभाग्य से मुझे प्रिंट लेकर इसे पढ़ने का अवसर मिला और बाद में मैंने इसके फारसी पाठ को भी खोज लिया।
गोस्वामी जी ने लिखा है :
श्रीजानकी वल्लभो विजयते
द्विश्शरं नाभिसंधत्ते द्विस्स्थापयति निश्रितान्।
द्विर्ददाति  न चार्थिभ्यो रामो द्विर्नैव भाषते।। १।।
तुलसी जान्यो दशरथहि धरमु न सत्य समान।
रामु तजो जेहि लागि बिनु राम परिहरे प्रान।। १।।
धर्मो जयति नाधर्म्मस्सत्यं जयति नानृतम्।
क्षमा जयति न क्रोधो विष्णुर्जयति नासुर।। १।।
( शेष फिर कभी…)
संदर्भ : गोस्वामी तुलसीदास जयंती / २०२०
— श्रीकृष्ण ‘जुगनू’
Shri Krishan Jugnu
Shri Krishan Jugnuhttps://www.indiaasking.com
भारतीय प्राच्यविद्या के जानकर , संस्कृत के ग्रंथो के अनुवादक

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

Get in Touch

3,283FansLike
6FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

ज्योतिष महाकुंभ में हुआ 151 से अधिक विद्वानों का सम्मान

रघुनाथ धाम धर्मार्थ सेवा संस्थान के तत्वाधान में शनिवार  27 फरवरी को जयपुर में ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह  एम.आई रोड स्थित एवं आकाशवाणी...

छोटी काशी, जयपुर में होगा ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह, जुटेंगें विद्वान् ज्योतिषीगण

27 फरवरी 2021 को होने वाले ज्योतिष महाकुंभ एवं सम्मान समारोह के पोस्टर का विमोचन होटल श्रीनाथ में गणमान्य लोगों की उपस्थिति में किया...

बदलते संदर्भ

लघुकथा -         "तुम कौन ?" लड़की का स्वर " मैं ...मैं हूँ , तुम ?" लड़के की आवाज़ " जैसे तुम वैसे ही मैं भी सिर्फ '...

वर्चस्व

लघुकथा पुरुष का भारी स्वर -" पर यह संसार तो हम पुरुष ही चलाते हैं ।" गर्वीली , वक्र मुस्कान । " हुम्म्म । " स्त्री के...

मकर संक्रांति का त्योहार

मकर संक्रांति का त्योहार हिन्दू धर्म के प्रमुख त्योहारों में शामिल है, जो सूर्य के उत्तरायन होने पर मनाया जाता है। इस पर्व की...